ख़्वाबीदा

तू रिवायत सी क़ुरबत होने लगी हैधीमी धीमी शाम सी ढलने लगी हैमैं महसूस कर लूँ तुझको ख़्वाबीदा मगरतू ताबिर बन फिर एक दफ़ा फिसलने लगी है । तेरे मयस्सर होने से इनायत तो होगीहर्फ़ जो मेरे सारे आज इज़्तिरार होगीफिर तेरे बगेर सिफ़ार ये क्या हैमूसलसल होगी तो बस ये फ़ुरकत होगी तू बन के शिकस्त मुझे परेशान कर केअर्स तक साथ साथ चलने लगी है तू रिवायत सी क़ुरबत होने लगी हैधीमी धीमी शाम सी ढलने लगी हैमैं महसूस कर लूँ तुझको ख़्वाबीदा मगरतू ताबिर बन फिर एक दफ़ा फिसलने लगी है । तू उल्फ़त की गुज़ारिस है ये मानामुक़द्दस तेरी हर तोहमत होगीमहबूब ये तेरी दामन तेरा आँचल से मगरमहरूम मेरी हर जुस्तजू होगी तू फ़क़त लम्स ख़लिश का हो कर के शफाक सी  इख़्तिताम बदलने लगी हैतू रिवायत सी क़ुरबत होने लगी हैधीमी धीमी शाम सी ढलने लगी हैमैं महसूस कर लूँ तुझको ख़्वाबीदा मगरतू ताबिर बन फिर एक दफ़ा फिसलने लगी है ।